You are here
Home > YOGA > कैसे करें भुजंगासन

कैसे करें भुजंगासन

bhujangasana

Bhujangasana

पेट के बल लेट जाइए। दोनों पैरों, एड़ियों और पंजों को आपस में मिलाइए और पूरी तरह जमीन के साथ चिपका लीजिए। अपने शरीर को पैरों की उँगलियों से लेकर नाभि तक के भाग को जमीन से लगाइए। अब हाथों को कंधे के सामने जमीन पर रखिए। दोनों हाथ कंधे के आगे पीछे नहीं होने चाहिएं। हाथों के बल नाभि के ऊपरी भाग को ऊपर की ओर झुकाइए जितना सम्भव हो।

 लाभ:

  • यह आसन कमर, रीढ़ को पतला तथा लचीला और छाती को चौड़ा करता है।
  • मोटापे को दूर करता है।
  • रक्त संचार को तेज करता है।
  • कब्ज़, अपच और वायु विकार दूर होते हैं भूख बढ़ती है।
  • शरीर में शक्ति और स्फूर्ति को संचार करता है।
  • स्त्री गर्भाशय को पुष्ट करता है।
  • यह आसन कई प्रकार के स्त्री रोगों को दूर करता है (प्रदर, मासिक धर्म का कम या अधिक आना)|
  • यह आसन स्त्रियों की सुन्दरता को बढ़ाता है।

 नोट:

  • हर्निया के रोगी को यह आसन नहीं करना चाहिए।
  • गर्भवती स्त्रियों को यह आसन नहीं करना चाहिए।

5,935 total views, 1 views today

Top