You are here
Home > YOGA (Page 3)

सेतु बन्धासन कैसे करें

Setu Bandhasana ज़मीन पर पीठ के बल लेट जाइए। फिर अपने दोनों हाथों से कमर को मज़बूती से पकड़ लीजिए। अब धीरे-धीरे सारे शरीर को कोहनियों के बल ऊपर की ओर उठाइए तथा इसके साथ ही घुटने मोड़कर पैर पास रखिए। लाभ: यह आसन रक्त संचार को सुधारता है। दमा और उच्च रक्त संचार

ब्रह्मचर्यासन कैसे करें

Brahmacharysana दोनों टांगों को घुटनों से मोड़ते हुए ज़मीन पर बैठ जाइए। फिर पैरों को दोनों ओर फैलाइए तथा हाथों को घुटनों पर रखिए ताकि नितम्ब ज़मीन को छूते रहें। शांत मन से गर्दन को सीधा करके बैठे रहिए। लाभ: यह आसन मन को एकाग्र करता है। इस आसन से घुटनों का दर्द दूर

सिद्धासन कैसे करें

Sidhhasana ज़मीन पर बैठ कर लेफ्ट पैर की एड़ी को यौन अंग के मध्य भाग में रखें। राइट पैर की एड़ी उठाइए और यौन अंग के ऊपर वाले भाग पर स्थिर करिए। दोनों पैरों के पंजे, जांघ और पिंडली के मध्य रहें। घुटने ज़मीन पर लगे रहें। दोनों हाथ घुटने पर

लोलासन कैसे करें

Lolasana ज़मीन पर पद्मासन लगाकर बैठ जाइए और अपने दोनों हाथों की हथेलियों को अपने सामने की ज़मीन पर लगाकर, अपने दोनों हाथों से सम्पूर्ण शरीर को ऊपर की ओर उठाइए। लाभ: इस आसन के अभ्यास से भुजाओं में अत्यधिक बल आता है और भुजाएं मांसल बनती हैं। कंधे और पीठ बलवान होते हैं। ह्रदय

तोलागुलासन कैसे करें

Tolagulasana ज़मीन पर दोनों पैरों को डण्डे की तरह फैला कर बैठ जाइए। फिर दोनों हाथों की उँगलियों के आगे के भाग को दोनों ओर नितम्ब की बगल में ज़मीन पर लगाकर पूरे शरीर को ज़मीन से ऊपर उठाइए। लाभ: इस आसन के अभ्यास से भुजाओं का बल बढ़ता है और उँगलियों में

टिट्टिभासन कैसे करें

Titthibhasana जमीन पर बैठ जाइए। दोनों पैरों को आकाश की ओर उठा कर केवल दोनों हाथों के सहारे ही सारे शरीर को ऊपर उठा लीजिये। लाभ: इस आसन से सारा शरीर, विशेषकर हड्डियां और मांसपेशियां, मजबूत होती हैं. इस आसन से मनुष्य के शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक बल में वृद्धि होती aहै.    

बकासन कैसे करें

Bakasana दोनों हथेलियों को ज़मीन पर लगाइए। अब दोनों घुटनों को कन्धे के पास भुजा पर रखिए। पैरों को ज़मीन से ऊपर उठाइए। पूरा शरीर भी ज़मीन से ऊपर उठा रहे। केवल हाथ ही ज़मीन से लगे रहने चाहिएं। लाभ: इस आसन से भुजाएं तथा दिल बलवान होते हैं। इस आसन के अभ्यास से

कर्णपीड़ासन कैसे करें

Karnapeedasana पीठ के बल धरती पर लेट जाइए। अपने दोनों पैरों को उठायें और पीछेे की ओर इतना ले जाएँ की दोनों घुटने कानों को छुएं। इस स्थिति में स्थिर रहें। लाभ: इस आसन के निरंतर अभ्यास से मस्तिष्क, गला, नाक, कान, इत्यादि शारीरिक अंगो को लाभ होता है। आँखों की रौशनी बढ़ती है। मोटापा,

उत्थित-पद्मासन कैसे करें

Uthhit Padmasana पद्मासन लगाकर जमीन पर बैठ जाइए (लेफ्ट पैर को उठा कर राइट जांघ पर रखिए और राइट पैर को उठा कर लेफ्ट जांघ पर रखिए)| ऐडियां नाभि के नीचे आपस में मिलनी चाहिए। हाथों के बल पूरे शरीर को ज़मीन से ऊपर उठाइए। लाभ: •    इस आसन से भुजाओं और उँगलियों

अर्धमत्स्येन्द्रासन कैसे करें

Ardhamatsyendrasana ज़मीन पर बैठ जाइए। अब लेफ्ट पैर की एड़ी को राइट तरफ से लाइए तथा नितम्ब के पास रखिए। ताकि वह नितम्ब से लग जाए। लेफ्ट पैर के  घुटने के निकट राइट पैर को जमीन पर राइट पैर के पंजे को जमा कर रखिए। फिर सीने के निकट लेफ्ट बाँह

Top